Saturday, October 27, 2018

हॉलमार्क गोल्ड की पहचान कैसे करे

हॉलमार्क गोल्ड क्या होता है और हॉलमार्क गोल्ड की पहचान कैसे करे। किसी भी व्यक्ति की लाइफ में सोना खरीदना मतलब सबसे बड़ा इन्वेस्टमेंट होता है और इस बड़े इन्वेस्टमेंट में ही कोई धोखा दे जाए तो कैसा लगेगा। इसी बात को ध्यान में रखते हुए भारत सरकार ने 1986 में भारतीय मानक ब्यूरो (BIS) की रचना की। BIS के बताये गए नियम अनुसार किसी भी व्यक्ति को हॉलमार्क गोल्ड ही खरीदना चाहिए।हॉलमार्क गोल्ड की पहचान कैसे करे
सोना खरीदते वक़्त बहुत सोचना पड़ता है की सोना कितना असली है, इसमें शुद्धता कितनी होगी तो यह सब समस्या ना हो इसलिए हॉलमार्क गोल्ड की निशानी देखनी चाहिए। हॉलमार्क गोल्ड की 5 निशानी होती है यह 5 चिन्ह BIS द्वारा verified होते है जिसकी सरकार गरंटी देता है। ऐसे सोने को अगर आप मार्किट में बेचने भी जायेगे तो आपको सही दाम मिलेंगे। तो आइये जानते है हॉलमार्क गोल्ड की पहचान क्या है।

हॉलमार्क गोल्ड क्या है

  • अगर आप यह सोच रहे हो की हॉलमार्क सोने का क्या फायदा है तो दोस्तों हॉलमार्क गोल्ड का सबसे बड़ा फायदा यह है की आपको आसानी से पता चल जाता है की सोना असली है या नकली जिस वजह से आपके पैसे सही जगह पर इन्वेस्ट होते है।
  • एक सवाल और भी है की क्या कोई भी ज्वेलर गोल्ड उत्पादकों पर हॉलमार्क प्राप्त कर सकता है? तो दोस्तों कोई भी नहीं कर सकता केवल सर्टिफाइड ज्वेलर ही BIS सेंटर उत्पादकों पर हॉलमार्किंग करवा सकते है।
  • किसी भी गहने पर हॉलमार्किंग का काम सम्पूर्ण होने के बाद निचे स्क्रीनशॉट में बताये अनुसार उस पर 5 चिन्ह आ जाते है जो बताते है की सोना असली है।

हॉलमार्क गोल्ड की पहचान

हॉलमार्क गोल्ड की पहचान कैसे करे
  1. BIS Logo : सबसे पहले आपको BIS का लोगो देखना है। अगर ज्वेलरी छोटी है तो ज्वेलर के पास से बिलोरी ग्लास ले कर चिन्हो को देखे।
  2. Gold Fineness : हर गोल्ड ज्वेलरी पर BIS द्वारा fineness नंबर दिया होता है जिसे पता चलता है की सोने की शुद्धता कितनी है। यहाँ आपको 24 कैरेट या 22 कैरेट जैसे नंबर देखने को मिलेंगे।
  3. Hallmarking Center : सभी वेरिफ़िएड जेवेलर को वेरिफिकेशन के बाद हॉलमार्किंग सेंटर का लोगो मिलता है जो गहने पर होता है।
  4. Jewellery Identification : ज्वेलरी आइडेंटिफिकेशन मार्क ज्वेलर के शॉप का होता है सो उसे भी एक बार चेक कर लीजिये।
  5. Year Of Marking : लास्ट में year of marking का निशान होता है जिसे पता चलता है की यह सोना कोनसे साल में बनाया गया है।
सोना खरीदने के बाद मन में सवाल रहता है की कैसे चेक करे सोना असली है या नकली तो दोस्तों इस समस्या को ध्यान में रखते हुए हमने एक पोस्ट लिखी है जिसमे गोल्ड चेक करने के तरीको के बारे में बताया गया है यहाँ पढ़े !
तो दोस्तों ऊपर बताये गए 5 पॉइंट से हॉलमार्क गोल्ड की पहचान होती है। आप सिंपल ऊपर दिए गए स्क्रीनशॉट में देख कर भी समझ सकते है की हॉलमार्क गोल्ड की क्या क्या निशानी होती है। तो मिलते है अपनी नेक्स्ट पोस्ट में तब तक टेक केयर।

0 comments:

Note: Only a member of this blog may post a comment.